Ravi Vats

Swapandosh

उत्सर्जन, जिसमें सपने और असल जिंदगी के मायने एक ही सूत्र में बंधे हैं। आज के दौर में नींद और जाग के विचार एक ही लगते हैं, दिन – रात केवल नाम के हैं। यह पेंटिंग उन्हीं अखंडित भावनाओं को दर्शाती है जो स्वप्न में तो फूट जाती हैं और वास्तविकता में पसरने के आकार ढूंढती रहती है। ये भावनाएं बहुत ही बलशाली हैं। .

Release, a thread that ties the dream state with reality. In the current times, there seems to be no difference between the mental state of sleep and wakefulness, night and day. This painting depicts these disintegrated feelings which simply appear in dreams but desperately seek representation in reality. The intensity of these feelings knows no bounds.

Date:
Category:
B a c k T o T o p B a c k T o T o p